current affairs LOK SABHA/RAJYA SABHA

भारतीय डाक भुगतान बैंक 

चर्चा का कारण
संसद की स्थायी समिति ने भारतीय डाक भुगतान बैंक से सम्बंधित रिपोर्ट जारी किया है।

भारतीय डाक भुगतान बैंक     पृष्‍ठभूमि

  • वर्ष 2015-16 के दौरान वित्‍तीय समावेशन के रूप में आईपीपीबी की स्‍थापना की बात कही गयी थी ।
  • डाक विभाग ने भारतीय डाक भुगतान बैंक की स्‍थापना के लिए सितंबर 2015 में भारतीय रिजर्व बैंक की ‘सैद्धांतिक रूप में स्‍वीकृति’ प्राप्‍त की थी।
  • आईपीपीबी डाक विभाग के अंतर्गत सरकार की 100 फीसदी हिस्‍सेदारी के साथ पब्लिक लिमिटेड कंपनी के तौर पर शुरू की गयी है।
  • आईपीपीबी, भारतीय डाक के नेटवर्क की पहुंच का लाभ लेकर देश भर में अगले वर्ष की शुरूआत तक 650 शाखाओं के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने की योजना पर काम कर रहा है।
  • भारतीय डाक भुगतान बैंक एक पहल है जो सम्पूर्ण भारतीयों के लिए बैंकिंग सुविधाओं को सुलभ बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 1 सितंबर 2018 को शुरू की गई।
  • यह बैंक 30 जनवरी 2018 को रांची और रायपुर में एक पायलट परियोजना के रूप में लॉन्च किया गया था

भारतीय डाक भुगतान बैंक के लक्ष्य

  • भारतीय डाक भुगतान बैंक का प्राथमिक उद्देश्य असंगत डाकघरों के नेटवर्क को पुनः सुधारना ।
  • डाकखानों में काम कर रहे तीन लाख डाक कर्मचारियों को दक्षता पूर्ण कार्य में लगाना है ।
  • अपनी विशिष्ट और विकास उन्मुख सेवाओं के माध्यम से, यह बैंक वित्तीय रूप को सुगम बनाने के लिए हर भारतीय परिवार में लोगों को
    बैंकिंग सेवाओं की पहुंच प्रदान करना है।
  • बैंक के अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हुए ये सुविधाएं और उससे संबंधित सेवाएं विभिन्न चैनलों (काउंटर सेवा, माइक्रो-एटीएम, मोबाइल बैंकिंग एप, एसएमएस तथा आईबीआर) के माध्यम से दी जाएगी।

इण्डिया पोस्ट पेमेंट बैंक द्वारा दी जाने वाली सुविधाएँ

  • इससे कई प्रकार की सरकरी योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री जीवन बीमा ,सुकन्या संवृद्धि ,आदि का लाभ मिलता है
  • 24 ⤩ 7 पैसा ट्रांसफर की सुविधा ।
  • मनरेगा ,स्कॉलर शिप का पैसा ,तथा अन्य सरकारी योजनाओं का पैसा ट्रांसफर इसके कहते में किया जायेगा ।
  • खाते से फ़ोन,मोबाइल, DTH आदि का रिचार्ज किया जायेगा ।
  • पानी ,बिजली,गैस आदि के बिल का भुगतान किया जायेगा बचत खाता ,चालू खाता में पैसा ट्रांसफर किया जायेगा ।
  • ATM तथा माइक्रो ATM की व्यवस्था की गयी है।

भारतीय डाक भुगतान बैंक का महत्त्व

  • आईपीपीबी अपने प्रौद्योगिकी सक्षम समाधानों के जरिए भुगतान/वित्तीय सेवाएं प्रदान करेंगी जिन्हें डाक विभाग द्वारा कर्मचारियों/अंतिम मील के एजेंटों तक पहुंचाया जा सकेगा, ताकि वे डाकिएं के स्थान पर वित्तीय सेवाओं के अग्रदूत बन सके अतः ग्रामीण क्षेत्रों में वित्तीय समावेशन बढ़ेगा ।
  • भारतीय भुगतान बैंक के माध्यम से वित्तीय क्षेत्र में डिजिटिलाइजेशन को बढ़ावा मिलेगा ।
  • साथ ही कम व्यय पर वित्तीय सेवाएं मुहैया कराई जा सकती है ।
  • आईपीपीबी को पूरे भारत में 1.55 लाख डाकघरों की कार्य-पद्धति का फायदा मिलेगा।
  • यह बचत और चालू खातों की सेवाएं प्रदान करेगा।
  • यह प्रत्यक्ष लाभ स्थानान्तरण; आईएमपीएस, आरटीजीएस, और एनईएफटी के माध्यम से धन हस्तांतरण में तेजी आने से आर्थिक गतिविधियां तेज होगी ।
  • आईपीपीबी लांच करना सरकार के देश के दूर-दराज क्षेत्रों तक तेजी से विकास कर रहे भारत के लाभों को पहुंचाने में एक ऐतिहासिक कदम होगा।
  • इससे यह सुनिश्चित होगा कि डिजिटल भारत जैसे सरकार के अग्रणी कार्यक्रमों का लाभ विकास की कतार में खड़े अंतिम नागरिक तक पहुंचाया जा सके और वित्तीय समावेश का हमारा सपना सबके लिए साकार होगा ।

भारतीय डाक में की गयी सुधार

  • 1972 भारतीय डाक में पोस्टल इंडेक्स नम्बर की शुरुआत की गयी थी जो 6 अंकों का है ।
  • 1985 में डाक और दूर संचार विभाग को अलग कर दिया गया ।
  • 1986 में स्पीड पोस्ट सेवा की शुरुआत की गयी 1994 में मेट्रो शहरों में वी सैट के माध्यम से मनी आर्डर शुरू की गयी ।
  • डाक सेवाओं की ऑनलाइन ट्रैकिंग सुविधा शुरू की गयी है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *