current affairs Daily Current

विश्व सीमा शुल्क संगठन

चर्चा का कारण

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने 8 से 10 मई, 2019 तक कोच्चि में विश्व सीमा शुल्क संगठन (डब्ल्यूसीओ) के एशिया प्रशांत क्षेत्र के सीमा शुल्क प्रशासन के क्षेत्रीय प्रमुखों का सम्मेलन आयोजित किया।

सम्मलेन से सम्बंधित विशिष्ट तथ्य

  • भारत ने इस सम्मेलन के आयोजन की मेजबानी डब्ल्यूसीओ के एशिया प्रशांत क्षेत्र के उपाध्यक्ष की हैसियत से की। भारत ने यह पदभार 1 जुलाई, 2018 को दो साल की अवधि के लिए संभाला है।
  • इस सम्मेलन में इस क्षेत्र में सीमा पार व्यापार को बढ़ावा देने, सुविधा प्रदान करने और सुरक्षा प्रदान करने के लिए डब्ल्यूसीओ के कार्यक्रमों और पहलों को आगे बढ़ाने में हुई प्रगति तथा अन्य बातों के साथ इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सदस्य प्रशासनों द्वारा अपेक्षित क्षमता निर्माण और तकनीकी सहायता की स्थिति का जायजा लिया गया
  • सम्मेलन में एशिया प्रशांत क्षेत्र के 20 से अधिक देशों के सीमा शुल्क शिष्टमंडलों तथा क्षमता निर्माण के क्षेत्रीय कार्यालय (आरओसीबी) और क्षेत्रीय खुफिया लाइजिनिंग कार्यालय (आरआईएलओ) के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।
  • इस में कार्यक्रम में , सुरक्षा से संबंधित मुद्दों, व्यापार सुविधा, ई-कॉमर्स, कार्य प्रदर्शन की माप, विश्वसनीय व्यापारी कार्यक्रम और व्यापार सुविधा तथा सीमा शुल्क प्रशासनों के क्षेत्र में उभरती हुई प्रौद्योगिकी और तार्किक चुनौतियों के बारे में विचार-विमर्श किया गया।
  • सीमा शुल्क और व्यापार के बीच सहयोगात्मक दृष्टिकोण के महत्व को मान्यता देते हुए, सीमा शुल्क के क्षेत्रीय प्रमुखों के सम्मेलन के अग्रदूत के रूप में 7 मई, 2019 को व्यापार दिवस का भी आयोजन किया गया।

विश्व सीमा शुल्क संगठन क्या है

  • विश्व सीमा शुल्क संगठन (World Customs Organization / WCO) विश्व सीमा शुल्क संगठन की स्थापना 1952 में सीमा शुल्क सहयोग परिषद के रूप में की गयी थी
  • यह एक अंतरसरकारी संगठन है डब्ल्यूसीओ का मूल उद्देश्य संपूर्ण विश्व में सीमा शुल्क प्रशासनों की प्रभावशीलता एवं कार्यक्षमता में वृद्धि लाना है।
  • वर्ष 1947 में व्यापार एवं प्रशुल्कों पर सामान्य समझौता गैट, द्वारा पहचाने गए सीमाकर मामलों के परीक्षण हेतु 13 यूरोपीय देशों ने एक अध्ययन दल की स्थापना की।
  • डब्ल्यूसीओ की सदस्यता निरंतर विश्व के सभी क्षेत्रों में पहुंच गई। 1994 में संगठन ने अपना वर्तमान नाम ‘विश्व सीमाकर संगठन’ (डब्ल्यूसीओ) अपनाया। आज, डब्ल्यूसीओ के सदस्य विश्व के 94 प्रतिशत से अधिक व्यापार के सीमाकर नियंत्रण के लिए उत्तरदायी हैं।

source pib

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *