current affairs Daily Current

वेलबीइंग बजट

चर्चा का कारण

न्यूजीलैंड की सरकार ने 30 मई 2019 को दुनिया का पहलावेलबीइंग बजटपेश किया।

क्या है वेलबीइंग बजट?

वेलबीइंग बजट बजट का वह प्रकार है जिसमे आर्थिक विकास की अपेक्षा जन कल्याण पर बल दिया जाता है ।यह आर्थिक विकास को आंकड़ों के बजाय लोगों के कल्याण को प्रदर्शित करता है ।इस बजट में आर्थिक विकास दर को प्राथमिकता देते हुए लोगों के कल्याण को प्राथमिकता दी जाती है

वेलबीइंग बजट के प्रमुख घटक

वैसे तो मानव कल्याण के सभी पक्ष वेलबीइंग बजट के अंतर्गत आते हैं परन्तु मोटे तौर पर वेलबीइंग बजट में निम्न तत्व समाहित होते हैं

1 . मानसिक स्वास्थ्य  से सम्बंधित पक्ष 

2 घरेलू हिंसा से सम्बंधित पक्ष

गरीबी से सम्बंधित पक्ष

4 असमानता से सम्बंधित पक्ष

 5 शिक्षा से सम्बंधित पक्ष

 6  बाल विकास से सम्बंधित पक्ष

वेलबीइंग बजट से सम्बंधित वैश्विक स्थिति

  • वेलबीइंग बजट का पहली बार स्पष्ट प्रावधान न्यूजीलैंड में देखने को मिलता है। यह विश्व का पहला वेलबीइंग बजट है
  • परन्तु भूटान द्वारा अपना गया हैप्पीनेस बजट इसी के अनुरूप है। इसमें आर्थिक विकास के बजाय मानव विकास पर ध्यान दिया जाता है ।भूटान में सबसे पहले 1970 में इससे जुड़ा आइडिया पेश किया गया और 2008 में नागरिकों की खुशियां मापने के लिए ग्रॉस नेशनल हैप्पीनेस इंडेक्स लाया गया था।
  • भूटान विश्व का पहला ऐसा देश है जहां विकास मापने के लिए खुशी को आधार  बनाया गया है।
  • संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की अगर बात की जाए तो इसने खुशी (Happiness) के लिए एक राष्ट्रीय कार्यक्रम और इसे क्रियान्वित करने हेतु एक मंत्री की भी नियुक्ति की जाती है।

भारत की स्थिति

  • भारतीय संविधान की प्रस्तावना और नीति निदेशक तत्व भी इसी अवधारणा पर बल देते है
  • भारत में भी आर्थिक विकास की जगह मानव विकास पर बल दिया जा रहा है।
  • आठवीं पंचवर्षीय योजना में मानव विकास की बात कही गयी  थी
  • भारत में मानव विकास को बढ़ावा देने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय की स्थापना की गयी है
  • मध्य प्रदेश भारत का पहला राज्य है जिसने प्रसन्नता विभाग की स्थापना की है

वेलबीइंग बजट  का महत्त्व

  • यह लोगों के विकास पर बल देता है कि केवल आर्थिक विकास पर
  • यह समावेशी विकास पर बल देता है
  • यह कल्याणकारी अवधारणा से युक्त है
  • वर्तमान आर्थिक विषमता और उपभोक्तावादी परिदृदश्य में यह महत्वपूर्ण हो जाता है

 

 down to earth 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *