current affairs Daily Current

बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड

  • विश्व बैंक द्वारा जारी एक रिपोर्ट क्वालिटी अननोन : द इनविज़िबल वाटर क्राइसिस’ में की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदूषित पानी कुछ देशों में आर्थिक वृद्धि की दर को एक-तिहाई तक कम कर रहा है।
  • इस रिपोर्ट के अनुसार जब बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड (Biological Oxygen Demand-BOD) एक निश्चित सीमा को पार कर जाती है, तो उस क्षेत्र में जीडीपी की वृद्धि एक-तिहाई कम हो जाती है।

बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड क्या है ?

  • बैक्टीरिया द्वारा जल में ऑक्सीजन की वह मात्रा जो ऑर्गनिक कंपाउंड के विघटन के लिए आवश्यक होता है उसे बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड कहते हैं ।
  • बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड पानी के जैविक प्रदूषण और समग्र जल की गुणवत्ता मापने का एक उपाय है ।यदि जल प्रदूषण कम है तो बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड कम होती है तथा यदि जल प्रदूषण अधिक है तो बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड अधिक हो जाएगी ।
  • भारत में बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड को कम करने के लिए एक पायलट प्रोजेक्ट चलाया जा रहा है ।साफ जल के लिए बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड 5 PPM होती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *