current affairs Daily Current

हिम तेन्दुआ

यूनाइटेड नेशंस कन्वेंशंस तो कॉम्बैट डेसर्टीफिकेशन के 14 वे सम्मलेन का आयोजन नोएडा में की गयी । इसमें कहा गया है कि हिमालय क्षेत्र में रहने वाले स्नो लेओपर्ड्स भी डेसर्टीफिकेशन से प्रभावित होने लगे हैं ।

हिम तेन्दुआ के बारे में विशिष्ठ तथ्य

  • हिम तेन्दुआ एक विडाल प्रजाति है जो मध्य एशिया में रहती है।
  • यद्यपि हिम तेन्दुए के नाम में “तेन्दुआ” है लेकिन यह एक छोटे तेन्दुए के समान दिखता है और इनमें आपसी सम्बन्ध नहीं है।
  • इनका फर बहुत लम्बा और मोटा होता है जो इन्हे ऊँचे ठण्डे स्थानो पर भीषण सर्दी से बचा कर रखता है। इन तेन्दुओं के पैर भी बड़े और ऊनी होते हैं, ताकि हिम में चलना सहज हो सके।ये बिल्ली-परिवार की एकमात्र प्रजाति है जो दहाड़ नहीं सकती है लेकिन बिल्ली के जैसी आवाज़ निकाल सकती है।
  • हिम तेंदुए वर्तमान में अफगानिस्तान, भूटान, चीन, भारत, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, नेपाल, पाकिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान, उजबेकिस्तान में एशिया तक ही सीमित है।ये पूर्वी अफगानिस्तान में हिंदू कुश में है और दक्षिणी साइबेरिया के लिए पामीर पर्वतमाला, काराकोरम और हिमालय के पहाड़ों के माध्यम से, सीमा बयकाल झील के पश्चिम में रूसी अल्ताई पर्वत शृंखला और पहाड़ों में पाए जाते हैं ।
  • हिम तेन्दुआ को पाकिस्तान का नेशनल हेरिटेज पशु घोषित किया गया है ।
  • हिम तेन्दुआ उत्तराखंड का राज्य पशु है ।हिम तेन्दुआ 60 प्रतिशत आवास चीन में है।
  • हिम तेन्दुआ को IUCN की सूचि में वल्नरेबल प्राणी का दर्जा दिया गया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *